Lumpy Skin Disease: पंजाब में 55 हजार से ज्‍यादा पशु चपेट में आए, 24 घंटे में सैकड़ों मरे

0

लंपी स्किन डिजीज (lumpy virus) ने देश के कई राज्‍यों में हजारों पशुओं की जान ले ली है। पंजाब में रोजाना बहुत-से पशु इसकी चपेट में आकर दम तोड़ रहे हैं। बीते रोज यहां 385 पशुओं की जान चली गई, वे लंपी स्किन डिजीज कैप्रिपॉक्स वायरस ग्रसित पाए गए। पशुपालन विभाग और चिकित्‍सा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, गुरुवार को पंजाब में 5185 पशुओं में इस बीमारी की पुष्टि हुई, वहीं अब तक राज्‍यभर में संक्रमित पशुओं की कुल संख्या बढ़कर 55383 पहुंच गई है।

पंजाब में लंपी स्किन डिजीज से मचा कोहराम

पशुओं को इस जानलेवा रोग से बचाने के लिए सरकार ने बाहर से कई तरह की वैक्‍सीन मंगवाई हैं। रोजाना विभिन्‍न ि‍जलों में हजारों गाय-बछड़ों, भैंसों को वैक्‍सीन के डोज दिए जा रहे हैं। इसके बावजूद पंजाब में दो दिन में लंपी से दोगुनी मौतें हुई हैं, और खतरा बढ़ता ही जा रहा है। पहले पशुओं के शरीर पर नोड्यूल बनने के केस आ रहे थे…अब गले और लीवर में गांठ के मामले बढ़ रहे हैं। जो पशु रोग की चपेट में आ रहे हैं, वे तीन-चार दिन के अंदर ही मर रहे हैं। यह बात खुद पशु पालन विभाग भी मान रहा है।

दूध उत्पादन पर बड़ा असर, हजारों लीटर कम हुआ

इस रोग का संक्रमण फैलने के वजह से पंजाब में अब दूध उत्पादन पर भी बुरा असर पड़ रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, वेरका के 4 प्लांटों में 1 लाख 85 हजार लीटर दूध उत्पादन कम हो गया है। वहीं, होशियारपुर के प्लांट में 46 हजार लीटर दूध की जगह अब महज 42 हजार लीटर दूध ही आ रहा है। इसी तरह पटियाला के प्लांट में दूध उत्पादन घटकर 70 हजार लीटर रह गया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि, लंपी स्किन डिजीज ने यहां किस कदर कोहराम मचाया हुआ है।

सीएम मान बोले- ज्‍यादा से ज्‍यादा पशु बचाने हैं

सूबे के संगरूर में ही कल 95 पशुओं ने दम तोड़ दिया। ऐसा अन्‍य जिलों में भी हुआ। आधिकारिक तौर पर, राज्‍यभर में 1314 संक्रमित पशुओं की मौत हो चुकी है। इस रोग के फैलने का मुद्दा कल पंजाब कैबिनेट की मीटिंग में भी उठा। जहां सीएम भगवंत मान ने माना कि कई किसानों के पास 2 ही पशु थे, दोनों लंपी का शिकार हो गए हैं। उन्‍होंने कहा था कि, स्थिति विकट होते जा रही है। पहले हमें पशुओं को लंपी के कहर से बचाना है। मीटिंग के उपरांत बताया गया कि, 3 मंत्रियों की कमेटी रिपोर्ट तैयार करने में जुटी है। उसकी रिपोर्ट आते ही मुआवजे पर फैसला होगा।

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here