डिप्टी सीएम रंधावा का कैप्टन पर बड़ा हमला, कहा-उनके मामलों को सुलझााने के लिए लगा एक महीना

0
Punjab Congress: Sukhjinder Randhawa angry with letter to high command

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ( Sukhjinder Singh Randhawa) का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने महत्वपूर्ण मामलों को छोड़ दिया था, इस गड़बड़ी को सुलझाने में उन्होंने एक महीना लग गया. उन्होंने कहा कि अब जल्द ही इसके परिणाम सामने आने वाले हैं.

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंट्रव्यू में बरगाड़ी बेअदबी और ड्रग्स के बारे में उन्होंने बताया कि बरगाड़ी बेअदबी (Bargadi sacrilege case) मामला तार्किक निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए तैयार है. यह प्राथमिकता का मामला है. हमने अपनी ओर से न्याय दिलाने के लिए आवश्यक सभी आधारभूत कार्य किए हैं. उन्होंने कहा कि मैं केवल इतना कह सकता हूं कि लोग बहुत जल्द कार्रवाई होते हुए देखेंगे. यह घंटों की नहीं तो दिनों की बात हो सकती है. मामला पहले से कोर्ट में है.

ड्रग्स मामले में रंधावा ने कहा कि  STF की रिपोर्ट सुनवाई की अगली तारीख 26 अक्टूबर को खुलेगी. हम कोर्ट से आग्रह कर रहे हैं कि STF की रिपोर्ट और डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय की रिपोर्ट दोनों को सार्वजनिक किया जाए.

STF की रिपोर्ट नहीं कर सकते हैं सार्वजनिक- रंधावा

रंधावा ने बताया कि सरकार ड्रग्स पर STF की रिपोर्ट खुद सार्वजनिक नहीं कर सकते. कोर्ट के निर्देश पर STF ने रिपोर्ट तैयार की थी. यह एक सीलबंद लिफाफे में है. कोर्ट में खुलने के बाद भी इसे सार्वजनिक करने के लिए हमें कोर्ट से अनुमति लेनी होगी. अकेले STF की रिपोर्ट से ज्यादा ड्रग्स के मामले होंगे. बस प्रतीक्षा करें और देखें कि हम क्या करते हैं. लोगों को लगेगा कि न्याय मिल गया है और असली दोषियों को सलाखों के पीछे डाल दिया गया है. उन्होंने बताया कि सिंचाई घोटाले की जांच शुरू हो चुकी है. इस घोटाले में कई बड़े नेता भी शामिल हैं, जिनमें कुछ अधिकारी और राजनेता भी शामिल हैं. अगर उनकी भूमिका तय हो जाती है तो हम किसी को नहीं बख्शेंगे.

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से 35 प्रतिशत सुरक्षा वापस ले ली है. उन्होंने खुद की पेशकश की. वह चाहते थे कि हम और पीछे हटें लेकिन एक सीएम को अलग-अलग जगहों पर सुरक्षा की जरूरत होती है, खासकर जब वह बहुत घूमते हैं. जरा सोचिए कि अमरिंदर के पूर्व सलाहकार बीआईएस चहल के पास 65 सुरक्षा गार्ड थे। उनके पास पांच रसोइए और तीन ड्राइवर थे. पटियाला में उनके मैरिज पैलेस में बाउंसर नहीं थे, लेकिन सुरक्षा के तौर पर पंजाब पुलिस थी. हमने अब सब वापस ले लिया है.

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here