क्या भारत में पोर्न फिल्में देखना गैरकानूनी है? आप जानते हैं कि क्या सजा दी जा सकती है?

0
Pornography in India, the law of pornography, Raj Kundra, IT Act, child pornography laws, Legal Status of Pornography In India, list of banned websites in India 2020
Is it illegal to watch porn movies in India

पोर्नोग्राफी से जुड़े अपराध करने वालों के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाती है। साथ ही अपराध की गंभीरता को देखते हुए आईपीसी की धारा भी लगाई जाती है।

मुंबई क्राइम ब्रांच ने अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा को अश्लील फिल्में बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उसे आज शाम 4 बजे कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके बाद चारों ओर एक ही सवाल तैर रहा है कि क्या राज कुंद्रा वाकई इतना गंभीर अपराध कर रहे थे?

भारत में पोर्नोग्राफी और अश्लील सामग्री को लेकर बहुत सख्त कानून हैं। कुंद्रा के केस के बाद लोगों के मन में यह सवाल उठने लगा है कि क्या भारत में अश्लील फिल्में देखना गैरकानूनी है?

अगर कोई व्यक्ति अपने मोबाइल या लैपटॉप पर ऐसी फिल्म देख रहा है तो क्या वह कोई अपराध कर रहा है? तो उत्तर नहीं है। लेकिन कानून के तहत चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखना गैरकानूनी है. वहीं अगर आप ऐसी गांधी फिल्में प्रकाशित और साझा कर रहे हैं तो यह अपराध की श्रेणी में आती है और आपके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है.

तो क्या भारत में अश्लील वीडियो सामग्री प्रतिबंधित है?

पोर्नोग्राफी से जुड़े अपराध करने वालों के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाती है। कुछ वेबसाइटों को छोड़कर, भारत में पोर्नोग्राफी पर पूरी तरह से प्रतिबंध है, लेकिन सरकार के सभी प्रयासों के बावजूद, सभी वेबसाइटें इस सामग्री को दिखाती हैं। यह भारत में कानूनी भी नहीं है। लेकिन अगर आप इस तरह के कंटेंट को पर्सनल डिवाइस पर देख रहे हैं तो कोई अपराध नहीं है।

हां, अगर आप किसी को जबरदस्ती अश्लील फिल्म बनाने या देखने के लिए कह रहे हैं तो यह अपराध है। आप किसी भी व्यक्ति को उसकी सहमति के बिना अश्लील सामग्री न तो भेज सकते हैं और न ही दिखा सकते हैं। ऐसा करने पर आपको जेल भी जाना पड़ सकता है।

मस्तराम जैसी पत्रिकाओं का क्या?

देश में तरह-तरह की अश्लील सामग्री वाली मैगजीन बिकती हैं। इसके लिए कानून कहता है कि यदि जन जागरूकता बढ़ाने के लिए कोई लेख प्रकाशित किया गया है तो ऐसा लेख अवैध नहीं है। इसके अलावा सभी लेख पोर्नोग्राफी के अंतर्गत आते हैं। मोटे शब्दों में समझा जाए तो इस तरह की फिल्में देखना देश में गैरकानूनी नहीं है। लेकिन इस तरह के कंटेंट को पब्लिश करना, शेयर करना अपराध के दायरे में आता है।

कंप्यूटर पर अश्लील वीडियो सहेजना अपराध है?

भारत में कई पोर्नोग्राफी वेबसाइटों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। लेकिन अन्य देशों में पंजीकृत वेबसाइटें भारतीय कानून के दायरे से बाहर हैं। लेकिन आप ऐसे कंटेंट को सेव नहीं कर सकते, यह भी क्राइम की कैटेगरी में आता है।

कितनी हो सकती है सजा?

पोर्नोग्राफी के तहत आने वाले मामलों में आईटी एक्ट 2008 की धारा 67 (ए) और आईपीसी की धारा 292, 293, 294, 500, 506 और 509 के तहत सजा का प्रावधान है। अपराध की गंभीरता के आधार पर पहले अपराध को 5 साल तक की कैद या 10 लाख रुपये तक के जुर्माने से दंडित किया जा सकता है। लेकिन इस तरह के अपराध में दूसरी बार पकड़े जाने पर जेल की सजा बढ़कर सात साल तक हो सकती है।

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here