शराब के शौकीनों के लिए अच्छी खबर, जानिए

0

World wide City Live world, जालंधर (आँचल): सर्दी के मौसम में अवैध शराब का बाजार गर्म है, तस्करों से मिलने वाली शराब की कीमतों में ठेकों के मुकाबले भारी अंतर नजर आ रहा है। एक्साइज पॉलिसी आने के बाद कुछ माह तक शराब के दामों में भारी गिरावट रही थी, जिससे उपभोक्ताओं के चहरे खिल उठे थे लेकिन अब शराब के दाम फिर से आसमान छू चुके है जिसके चलते लोगों को मजबूरी में अवैध शराब खरीदनी पड़ रही है। अवैध शराब के कारोबार में इस बार कई तरह के बदलाव देखने को मिले रहे है जोकि उपभोक्ताओं को अपनी और आकर्षित कर रहे हैं।

दामों में अंतर की बात करें तो चंडीगढ़ से तस्करी करके लाई गई शराब सस्ती होती रही है व उक्त शराब में मिलावट का हमेशा संदेह रहता है। चंडीगढ़ वाली सस्ती शराब की बात पुरानी हो गई है। इस बार नया यह हुआ है कि पंजाब मार्का शराब सस्ते रेटों पर उपलब्ध हो रही है। बड़े ब्रांड में 500 रुपए व इससे अधिक का अंतर है जबकि रूटीन में बिकने वाले आर.एस. ब्रांड की बोतल ठेकों के मुकाबले 200 रुपए सस्ती मिल रही है। मार्कीट में अधिक बिक्री वाली आर.एस. ब्रांड की बोतल ठेके पर 600 रुपए में खरीदनी पड़ रही है, वहीं बाहर यह बोतल 400 रुपए में आसानी से मिल रही है। ठेके वाले ग्राहकों को अधिक डिस्काऊंट नहीं देते, वह इस ब्रांड की पेटी की खरीदारी पर 1 बोतल का दाम कम करके उपभोक्ता से 11 बोतल के 6600 रुपए वसूल रहे हैं जबकि वहीं अवैध शराब बेचने वाले लोग 4400 रुपए में पेटी बेच रहे हैं।

मार्कीट के जानकारों का कहना है कि रूटीन ब्रांड पर उपभोक्ता को पेटी पर 2200 रुपए की बचत हो रही हो, तो वह ठेके से क्यों खरीदेगा। दामों में अंतर के कारण जहां एक तरफ अवैध शराब का बाजार ‘गर्म’ हुआ है वहीं शराब के चाहवानों को वाजिब दामों पर शराब उपलब्ध हो रही है। अवैध शराब के बाजार में आए बदलाव के चलते अब सस्ती शराब के चाहवानों को हॉफ भी आसानी से उपलब्ध हो रहा है जबकि इससे पहले बोतल ही मिल पाती थी। कई बड़े तस्कर तो पेटी से कम की बात भी नहीं करते थे लेकिन अब हॉफ मिलना अवैध शराब के कारोबार को बल दे रहा है। वहीं यह बात भी सुनने को मिल रही है कि अवैध शराब का कारोबार करने वाले अपने परिचित लोगों को घर तक शराब की डिलीवरी कर रहे हैं।

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here