मुख्यमंत्री का ऐलान, किसानों से 100 रुपए किलो दूध खरीद कर 60 रुपए में बेचेंगे

0

World wide city live : हिमाचल में सरकारी कर्मचारियों के लिए ओल्ड पेंशन लागू करने के बाद अगले दिन मंडी जिला के तत्तापानी पहुंचे मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू ने अपने अगले बजट को लेकर भी कई ऐलान कर दिए। उन्होंने कहा कि वह ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करना चाहते हैं और उनका बजट किसान और महिला सम्मान को समर्पित होगा। प्रदेश सरकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सभी किसानों से गाय का दूध 80 रुपए प्रति किलो और भैंस का दूध 100 रुपए प्रति किलो खरीदेगी और बाजार में 60 रुपए किलो बेचेगी।

इसका उद्देश्य किसानों को एश्योर्ड इनकम देना है। मुख्यमंत्री ने बताया कि हिमाचल में बन रहा सीमेंट यहां महंगा है और पंजाब में सस्ता, जबकि संसाधन हमारे इस्तेमाल हो रहे हैं। ऐसा अब नहीं चलेगा। भानुपल्ली-बिलासपुर रेलवे लाइन के लिए 1300 करोड़ हमारे इस्तेमाल हो रहे हैं और रेललाइन का इस्तेमाल सीमेंट उद्योग करेंगे। हमने संसाधनों का इस्तेमाल अपने लोगों के लिए करना है। सीएम सुक्खू ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पहली कैबिनेट बैठक में ओपीएस बहाल करने का फैसला लेकर 10 गारंटी वाले वादे को पूरा करने की शुरुआत कर दी है। सरकार गठित होने के बाद विपक्ष कैबिनेट गठन की हाय तौबा मचा रहा था। दरअसल, वह चुने हुए विधायकों को मौका दे रहे थे कि वह योजनाओं को समझें। व्यवस्थाओं को जानें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सरकारी कर्मचारी, अधिकारी विकास की गाथा लिखते हैं। शिक्षण संस्थान बनाने में उनका विशेष योगदान है। सडक़ों का विकास, सामान्य विकास भी कर्मचारियों अधिकारियों के माध्यम से होता है। इन्हें ओपीएस मिलनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री होने के नाते उनका दायित्व बनता है कि चुनावों के दौरान जो वादे किए गए हैं, वह चरणबद्ध तरीके से अब पूरे किए जाएं। उसी कड़ी में सरकार फैसले ले रही है। अगला कदम महिलाओं को 1500 प्रति माह प्रदान करने का है, जिसमें 18000 रुपए हर साल महिलाओं को मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने पिछली भाजपा सरकार पर प्रदेश पर 75000 करोड़ रुपए के भारी कर्ज का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सरकार के वित्तीय कुप्रबंधन और फिजूलखर्ची के कारण राज्य सरकार को अपने कर्मचारियों को वेतन एरियर की 4430 करोड़ रुपए और पेंशनरों के पेंशन एरियर की 5226 करोड़ रुपए की देनदारी विरासत में मिली है।

सरकार पर कर्मचारियों और पेंशनरों के महंगाई भत्ते के रूप में 1000 करोड़ रुपए की देनदारी पूर्व राज्य सरकार द्वारा छोड़ी गई है। पूर्व सरकार ने 11,000 करोड़ रुपए का वित्तीय बोझ वर्तमान सरकार पर डाला है। इस अवसर पर मेला समिति के उपाध्यक्ष वीरेंद्र कपिल ने मुख्यमंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने मुख्यमंत्री से क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने का भी आग्रह किया। इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार (मीडिया) नरेश चौहान, विधानसभा चुनाव में करसोग से कांग्रेस प्रत्याशी महेश राज, मुख्यमंत्री के ओएसडी गोपाल शर्मा, पूर्व विधायक सतपाल रायजादा, उपायुक्त मंडी अरिंदम चौधरी, पुलिस अधीक्षक मंडी शालिनी अग्निहोत्री सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

भाजपा सरकार ने किया युवाओं से धोखा

मुख्यमंत्री सुक्खू ने कहा कि पूर्व की भाजपा सरकार द्वारा युवाओं के साथ धोखा किया गया। रोजगार को बेचा गया है। पुलिस पेपर लीक के बाद जूनियर ऑफिस असिस्टेंट का पेपर लीक इसका प्रमाण है। वर्तमान कांग्रेस सरकार ने युवाओं के साथ वादा किया है कि जो भी सरकारी रोजगार होगा। उसमें शत-प्रतिशत पारदर्शिता बरती जाएगी। मेरिट को इग्नोर नहीं किया जाएगा। वर्तमान सरकार एक लाख युवाओं को रोजगार प्रदान करेगी।

अनाथ बच्चों की जानकारी दें लोग

सीएम ने कहा कि माता-पिता के बिना जीवन यापन करना दर्दनाक पीड़ा है। इसी को समझने के लिए शपथ लेने के तुरंत बाद उन्होंने बाल आश्रय का दौरा किया गया। इसके बाद 100 करोड रुपए की सुख आश्रय योजना लाई। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि उनके आसपास कोई भी ऐसा बच्चा जो अनाथ है, बेसहारा है, रिश्तेदारों के यहां रहता है, तो इसकी जानकारी प्रदेश सरकार को दें। उसकीपढ़ाई-लिखाई-ट्यूशन का खर्च सरकार वहन करेगी। जिसका सीधा अर्थ यही है कि ऐसे बच्चों का माई बाप वर्तमान सरकार बनेगी। एकल नारी को भी इस योजना के साथ जोड़ा गया है।

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here