डेबिट-क्रेडिट कार्ड का करते हैं इस्तेमाल तो जल्दी से खबर पढ़ लें, नहीं तो होगा नुकसान

0

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कार्ड डेटा की सुरक्षा बढ़ाने के प्रयास के तहत टोकन के दायरे का विस्तार किया है। इसके तहत कार्ड जारी करने वालों को टोकन सर्विस प्रोवाइडर (टीएसपी) के तौर पर काम करने की इजाजत दी गई है। टोकन प्रणाली के तहत, कार्ड के माध्यम से लेनदेन की सुविधा के लिए एक विशेष वैकल्पिक कोड तैयार किया जाता है। इसे टोकन कहा जाता है। इसके तहत ट्रांजैक्शन के लिए कार्ड डिटेल देने की जरूरत नहीं है।

रिजर्व बैंक ने डिवाइस-आधारित टोकन प्रणाली को ‘कार्ड-ऑन-फाइल टोकनाइजेशन’ (सीओएफटी) सेवाओं तक बढ़ा दिया है। इस कदम के साथ, व्यापारी मूल कार्ड विवरण को बरकरार नहीं रख पाएंगे।

‘कार्ड-ऑन-फाइल’ का अर्थ है कि कार्ड से संबंधित जानकारी पेमेंट गेटवे और व्यापारियों के पास होगी। इसके आधार पर वे भविष्य के लेनदेन को पूरा करेंगे।

एक बयान में, आरबीआई ने कहा, “… कार्ड जारीकर्ताओं को कार्ड टोकन सेवा प्रदान करने की अनुमति दी गई है। यानी, वे टोकन सेवा प्रदाता के रूप में कार्य करने में सक्षम होंगे। कार्ड विवरण के लिए टोकन प्रणाली सहमति से काम करेगी। ग्राहक की। इसके लिए सत्यापन के लिए अतिरिक्त उपाय (एएएफ) की आवश्यकता होगी।”

केंद्रीय बैंक के मुताबिक इस फैसले से कार्ड की डिटेल सुरक्षित रहेगी जबकि कार्ड के जरिए ट्रांजेक्शन की सुविधा पहले की तरह ही रहेगी. गौरतलब है कि पिछले महीने आरबीआई ने मोबाइल फोन और टैबलेट के अलावा लैपटॉप, डेस्कटॉप, हैंड वॉच, बैंड और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) आधारित उत्पादों आदि को भी शामिल किया था।

इससे पहले, भारतीय रिजर्व बैंक ने मुंबई के बॉम्बे मर्केंटाइल को-ऑपरेटिव बैंक पर मानदंडों का उल्लंघन करने पर 50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था। आरबीआई ने अपने ग्राहक को जानिए (केवाईसी) मानदंडों के कुछ प्रावधानों का पालन न करने के लिए अकोला जिला स्थित केंद्रीय सहकारी बैंक लिमिटेड, अकोला (महाराष्ट्र) पर 2 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था।

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here