जेल में कैसे बीतेंगे आर्यन के दिन? सुबह जल्‍दी उठने से लेकर करने होंगे ये काम

0
Aryan Khan
Aryan Khan

ड्रग केस में एक्टर शाहरुख खान (Shahrukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) की जमानत याचिका खारिज हो गई है. आर्यन के साथ ही उनके परिवार वालों को भी उम्मीद थी कि उसे बेल बॉन्ड पर रिहा कर दिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. उसकी जमानत याचिका जज ने खारिज कर दी.

बैरक में बंद किए गए आर्यन खान

सहयोगी वेबसाइट DNA के मुताबिक आर्यन खान समेत पकड़े गए सभी 8 आरोपियों को जेल में विचाराधीन कैदियों वाली बैरक में रखा गया है. ऐसी बैरक में रखे गए कैदियों को घर के कपड़े पहनने की छूट होती है. हालांकि इसके अलावा उन्हें और कोई रियायत नहीं मिलती. कोर्ट ने जेल प्रशासन को खास ताकीद की है कि आर्यन खान (Aryan Khan) और उनके साथियों को किसी भी सूरत में बाहर का खाना न दिया जाए.

सुबह 6 बजे उठ जाना होगा

सूत्रों के अनुसार आर्यन खान (Aryan Khan) को जेल में कैदियों की ओर से बनाया जाने वाला भोजन खाना होगा और जेल मैन्युअल के हिसाब से सुबह 6 बजे उठ जाना होगा. इसके बाद जेल के नियमानुसार उन्हें लाइन में लगकर ब्रेक फास्ट हासिल करना होगा. इस ब्रेकफास्ट में उन्हें केवल शीरा और पोहा ही मिलेगा. सुबह 11 बजे उन्हें जेल के कैदियों की ओर से तैयार किया गया लंच मिलेगा.

लाइन में लगकर लेना होगा भोजन

दिन और रात के भोजन में उन्हें रोटी, सब्जी और दाल-चावल दिए जाएंगे. भोजन की यह मात्रा भी तयशुदा होगा और कैदी इससे ज्यादा डाइट हासिल नहीं कर सकेंगे. शाम 6 बजे उन्हें डिनर मिलेगा. अगर कैदी चाहें तो डिनर को 8 बजे भी खा सकते हैं लेकिन इसके लिए उन्हें 6 बजे लाइन में लगकर थाली में भोजन लेना होगा. शाम 6 बजे के बाद अगर कैदी चूक गए तो उन्हें भूखे पेट भी सोना पड़ सकता है.

जेल में नहीं चलेगा पिता का स्टारडम

आर्यन खान (Aryan Khan) समेत सभी कैदियों को सुबह 6 से शाम 6 बजे तक बैरक से बाहर घूमने की परमीशन होगी. शाम 6 बजे के बाद उन्हें बैरक के अंदर बंद कर दिया जाएगा. दिन में उन्हें जेल प्रशासन की ओर से दिया गया काम भी करना होगा. कोर्ट ने जेल प्रशासन को सख्त आदेश दिया है कि आर्यन समेत किसी भी आरोपी को कोई खास ट्रीटमेंट नहीं दिया जाए. जो भोजन-पानी और सुविधाएं दूसरे कैदियों को मिलती हैं, वही सुविधाएं आर्यन खान को हासिल होंगी.

नेगेटिव निकला आरोपियों का कोरोना टेस्ट

सूत्रों के मुताबिक जेल भेजने से सभी आरोपियों का कोरोना टेस्ट कराया गया था, जिसमें उन सबकी रिपोर्ट नेगेटिव आई. सभी आरोपियों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं. इसलिए उन्हें जेल में केवल 5 दिनों तक क्वारंटीन रखा गया है. इस दौरान वे बाकी कैदियों से अलग रहेंगे. क्वारंटीन पीरियड पूरा होने पर उन्हें दूसरे कैदियों के साथ मिक्स अप कर दिया जाएगा.

 

News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar
News Website in Jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here